31 मार्च पापमोचनी एकादशी को ये 4 राशि के घर स्वयं माता लक्ष्मी दे रही है दस्तक

पंचांग सूर्य तथा चंद्रमा की गति को बताता है। प्रातःकाल पंचांग पढ़ना बहुत ही शुभ माना जाता है। पंचांग पढ़कर उस दिन की शुभ तथा अशुभ स्थितियां जानी जा सकती हैं। कोई भी कार्य शुभ मुहूर्त में करना बेहतर होता है। राहुकाल में कोई भी कार्य आरंभ करना अच्छा परिणाम नहीं देता है।

आज जन्म लेने वाले बच्चों का भविष्य-
आज जिन बच्चों का जन्म हुआ है वह बहुत ही भाग्यशाली होते हैं। ऐसे बच्चे कला तथा संगीत में बहुत नाम कमाते हैं। उच्च प्रशासनिक सेवाओं में भी जा सकते हैं। देश विदेश की यात्रा करते हैं।

इनकी विद्वता का आलोक सम्पूर्ण विश्व में दैदीप्यमान होगा। राजनीति तथा प्रशासन में भी बहुत नाम कमाते हैं। यदि कुंडली में शुक्र की स्थिति अच्छी है तो फ़िल्म तथा मनोरंजन में बड़ा नाम कमाते हैं। माता पिता के बहुत ही आज्ञाकारी होंगे।

आमलकी एकादशी को मोक्ष प्राप्ति के लिए अत्यंत शुभ माना गया है। देवी भागवत पुराण के अनुसार इस एकादशी का महत्व अक्षय नवमी के बराबर है। साल 2019 में आमलकी एकादशी यानि 17 मार्च, रविवार को मनाई जाएगी। कहते हैं कि जो मनुष्य इस एकादशी व्रत को विधि पूर्वक करता है उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है।

इस व्रत में मुख्यतौर पर भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। साथ ही इस एकादशी में भगवान विष्णु के अलावा आंवाले के पेड़ की भी पूजा होती है। यही कारण है कि फाल्गुन शुक्ल एकादशी को आमलकी एकादशी के नाम से जाना जाता है। आगे जानते हैं आमलकी एकादशी की व्रत-कथा और पूजा-विधि।

व्रत कथा: आमलकी एकादशी का वर्णन कई पुराणों में मिलता है। पौराणिक कथा के अनुसार इसी दिन सृष्टि के आरंभ काल में आंवले के वृक्ष की उत्पत्ति हुई थी। आंवले की उत्पत्ति के विषय में एक कथा आती है कि

ब्रह्मा जी जब विष्णु जी के नाभि कमल से उत्पन्न हुए थे, तब उन्हें जिज्ञासा हुई कि उनकी उत्पत्ति कैसे हुई है। इस प्रश्न का उत्तर देने के लिए ब्रह्मा जी तपस्या में लीन हो गए। ब्रह्मा की तपस्या के प्रसन्न होकर भगवान विष्णु प्रकट हुए।

भगवान विष्णु को सामने देकर ब्रह्मा जी खुशी से रोने लगे। ब्रह्मा जी की आंसू भगवान विष्णु की चरणों में गिरने लगे। ब्रह्मा जी की इस भक्ति-भाव को देखकर भगवान विष्णु प्रसन्न हुए। फिर ब्रह्मा जी की आंसुओं से आमलकी यानि आंवले की उत्पत्ति हुई।

अर्थात् आंवले के पेड़ की उत्पत्ति हुई। शास्त्रों के अनुसार आमलकी एकादशी के दिन व्रत-उपवास के नियमों का पालन करना चाहिए। इसके अलावा इस दिन आंवले के वृक्ष को लगाना शुभफलदायक होता है। इस दिन आंवले के पौधे को लगाने से घर-परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

पूजा-विधि: एकादशी के दिन प्रातः स्नानादि से निवृत होकर भगवान विष्णु और आंवले के वृक्ष की पूजा करें। अगर आंवले का वृक्ष उपलब्ध नहीं हो तो आंवले का फल भगवान विष्णु को प्रसाद स्वरूप अर्पित करें।

घी का दीपक जलकार विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें। जो लोग व्रत नहीं करते हैं वह भी इस एकादशी के दिन भगवान विष्णु को आंवला अर्पित करें और स्वयं खाएं भी। इस दिन आंवले का सेवन अवश्य करना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार आमलकी एकादशी के दिन आंवले का सेवन भी पाप का नाश करता है।

आज के इस पोस्ट में हम आपको ऐसी कुछ राशियों के बारे में बताएंगे जिनकी किस्मत आने वाले 11 दिनों में पलटने वाली है. 11 दिन के बाद इन्हें हर वो खुशियां मिलने वाली है जिसके वो हक़दार हैं.

इन राशियों को अपनी कड़ी मेहनत का फल कुछ दिनों में मिल जाएगा. अब उन्हें अमीर बनने से कोई नहीं रोक सकता. कुछ ही दिनों में आपको वह सारे ऐशो-आराम मिलने वाले हैं जिसकी अब तक आपने सिर्फ कल्पना की थी.

दरअसल, 11 दिन बाद कुछ ग्रह अपने स्थान बदल रहे हैं. ग्रहों के स्थान बदलने का फायदा मुख्य रूप से इन 3 राशियों को होने वाला है. तो कौन सी हैं वो 3 राशियां? आईये जानते हैं.

मेष राशि

आज से 11 दिन बाद मेष राशि के जातकों की किस्मत पलटने वाली है. इस राशि के जातकों के जीवन में किसी ऐसे प्रतिष्ठित व्यक्ति का आगमन होने वाला है जिनकी वजह से उनका मुनाफा दोगुना हो जाएगा.

नौकरी तलाश कर रहे लोगों को किसी प्रतिष्ठित कंपनी से बहुत अच्छा ऑफर मिलने वाला है. 11 दिन बाद आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होनी शुरू हो जाएगी. कोई महंगी चीज घर आ सकती है.

आप जो भी कार्य शुरू करेंगे उसमें आपको सफलता ही मिलेगी. अपनी सेहत का ख्याल रखें. आप अपने पार्टनर या दोस्तों के साथ कहीं घूमने जा सकते हैं. 11 दिन बाद भारी धन लाभ होने की संभावना है.

सिंह राशि

सिंह राशि वालों की किस्मत 11 दिन बाद पूरी तरह पलट जायेगी. काम की वजह से थोड़ी भागादौड़ी करनी पड़ सकती है. लेकिन इस भागादौड़ी से आपको बहुत बड़ा लाभ मिलने वाला है. यदि आपका कोई सरकारी कार्य रुका हुआ है, तो कुछ दिनों में पूरा हो जायेगा.

आप जल्द ही खुद के घर में प्रवेश कर सकते हैं. नए लोगों से मिलना या सहकर्मियों का सुझाव आपके लिए महत्वपूर्ण साबित हो सकता है. उनके सुझाव को नजरअंदाज न करें.

परिवार में आपकी जिम्मेदारियां बढ़ेंगी जिसे बखूबी निभाएंगे. मुश्किल की घड़ी आने पर पार्टनर का पूरा सहयोग मिलेगा जिससे आपका प्यार और बढ़ेगा. अटका हुआ पैसा वापस मिलने वाला है. 11 दिन बाद आप लखपति बन सकते हैं.

तुला राशि

11 दिन बाद मिथुन राशि वालों के लिए शुभ संयोग बन रहा है. पहले के अटके कार्यों में आपको सफलता हासिल होगी. स्वास्थ्य अच्छा रहेगा लेकिन पेट से संबंधित कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

कुछ दिनों में विदेश यात्रा पर जाना पड़ सकता है. परिवार में चल रहे कलेश खत्म हो जाएंगे. आज से 11 दिन बाद आपको कोई बहुत बड़ी खुशखबरी मिलने वाली है.

भोलेनाथ की कृपा से करोड़पति बनने की संभावना है. किस्मत आपका पूरा साथ देगी. जो भी कार्य शुरू करेंगे उसमें सफलता मिलेगी. बिज़नेस शुरू करने का अच्छा समय है.