देवशयनी एकादशी 12 जून आ चुके है अब इन 6 राशि के अच्छे दिन मुँह से निकलते ही इच्छा होगी पूरी..

निर्जला एकादशी साल 2019 (Nirjala Ekadashi 2019) में 13 जून 2019 गुरुवार को पूरे देशभर में बड़ी धूमधाम से मनाया जाएगी। ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष (Jyeshtha Shukla Paksha) में पड़ने वाली एकादशी को ही निर्जला एकादशी (Nirjala Ekadashi) कहते हैं।

एकादशी में भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की पूजा का विधान है। निर्जला एकादशी का व्रत (Nirjala Ekadashi Vrat) रखने वाले को सभी एकादशियों का फल मिलता है। इसलिए इस एकादशी को सभी एकादशियों में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है।

निर्जला एकादशी में जल की एक बूंद तक ग्रहण नहीं की जाती । महाभारत काल (Mahabharat Kaal) के दौरान पांडू पुत्र भीम (Bhim) ने भी स्वर्ग की इच्छा से इस व्रत को रखा था ।

जिसकी वजह से निर्जला एकादशी के इस व्रत को भीमसेनी एकादशी (Bhimseni Ekadashi) के नाम से भी जाना जाता है। अगर आप भी निर्जला एकादशी का व्रत करना चाहते हैं और आपको निर्जला एकादशी के बारे में नहीं पता तो आज हम आपको निर्जला एकादशी के बारे में बताएगं।

तो चलिए जानते हैं निर्जला एकादशी के बारे में….. निर्जला एकादशी साल 2019 (Nirjala Ekadashi 2019) में 13 जून 2019 गुरुवार को पूरे देशभर में बड़ी धूमधाम से मनाया जाएगी।

ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष (Jyeshtha Shukla Paksha) में पड़ने वाली एकादशी को ही निर्जला एकादशी (Nirjala Ekadashi) कहते हैं। एकादशी में भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की पूजा का विधान है।

निर्जला एकादशी का व्रत (Nirjala Ekadashi Vrat) रखने वाले को सभी एकादशियों का फल मिलता है। इसलिए इस एकादशी को सभी एकादशियों में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है।

निर्जला एकादशी में जल की एक बूंद तक ग्रहण नहीं की जाती । महाभारत काल (Mahabharat Kaal) के दौरान पांडू पुत्र भीम (Bhim) ने भी स्वर्ग की इच्छा से इस व्रत को रखा था ।

जिसकी वजह से निर्जला एकादशी के इस व्रत को भीमसेनी एकादशी (Bhimseni Ekadashi) के नाम से भी जाना जाता है। अगर आप भी निर्जला एकादशी का व्रत करना चाहते हैं और आपको निर्जला एकादशी के बारे में नहीं पता

तो आज हम आपको निर्जला एकादशी के बारे में बताएगं। तो चलिए जानते हैं निर्जला एकादशी के बारे में….. हथेली में शुक्र पर्वत की यह स्थिति दिलाती है ऐशों आराम, आप भी जानें निर्जला एकदशी का महत्‍व (Nirjala Ekadashi Ka Mahatva) निर्जला एकादशी को सभी एकादशियों में सबसे बड़ा स्ठान दिया गया है ।

एकदशी में मुख्य रूप में भगवान विष्णु की पूजा अर्चना की जाती है। प्रत्येक साल में 24 एकादशियां आती है। इन्हीं में से एक निर्जला एकादशी भी होती है। विष्णु पुराण के अनुसार एकादशी का विशेष महत्व बताया गया है।

आप भी जानें पुराणों के अनुसार जो व्यक्ति सभी एकादशियों का व्रत नहीं रख पता । वह सिर्फ निर्जला एकादशी का ही व्रत कर ले तो उसे सभी एकादशियों का फल मिल जाएगा। साल की सभी एकादशियों में निर्जला एकादशी का पुण्य फल कई गुना है।

कई बार साल में मलमास या अधिमास होने के कारण 24 एकादशियों की जगह 26 एकादशियां भी पड़ जाती है। इसलिए माना जाता है कि जो व्यक्ति साल की सभी एकादशियों का व्रत नहीं रख पता। अगर वह सिर्फ निर्जला एकादशी का ही व्रत कर ले तो उसे सभी एकादशियों का फल मिल जाता है।

निर्जला एकादशी पर भगवान विष्णु की विधिवत पूजा की जाती है। निर्जला एकादशी का व्रत इसलिए भी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि इस व्रत में पानी तक नहीं पिया जाता।

निर्जला एकादशी व्रत कथा (Nirjala Ekadashi Vrat Katha) निर्जला एकादशी से संबंधित पौराणिक कथा के कारण इसे पाण्डव एकादशी और भीमसेनी या भीम एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।

पाण्डवों में दूसरा भाई भीमसेन खाने-पीने का अत्यधिक शौकीन थे। अपनी भूख को नियन्त्रित करने में सक्षम नहीं थे इस कारण वह एकादशी व्रत को नही कर पाते थे। भीम के अलावा बाकि पाण्डव भाई और द्रौपदी साल की सभी एकादशी व्रतों को पूरी श्रद्धा भक्ति से किया करते थे।

भीमसेन अपनी इस लाचारी और कमजोरी को लेकर परेशान था। भीमसेन को लगता था कि वह एकादशी व्रत न करके भगवान विष्णु का अनादर कर रहा है। इस दुविधा से उभरने के लिए भीमसेन महर्षि व्यास के पास गया

तब महर्षि व्यास ने भीमसेन को साल में एक बार निर्जला एकादशी व्रत को करने कि सलाह दी और कहा कि निर्जला एकादशी साल की चौबीस एकादशियों के तुल्य है। जिसके बाद भीम ने निर्जला एकादशी का पूरे विधि-विधान से व्रत किया।

इसी पौराणिक कथा के बाद निर्जला एकादशी भीमसेनी एकादशी और पाण्डव एकादशी के नाम से प्रसिद्ध हो गयी। इस एकादशी को सभी एकादशीयों में विशिष्ट स्थान प्राप्त है । इस एकादशी का व्रत करने से मनुष्य को अपने जीवन के सभी पापों से छुटकारा मिलता है।

निर्जला एकादशी से पहले ये 6 राशि वाले कभी भी बन सकते है करोड़पति :

मेष राशि: आप राशि वाले जातकों को बहुत अत्यधिक सावधान रहने की आवश्यकता है आपको अपने ऊपर संयम बरतने की आवश्यकता है तथा मन में नकारात्मक चिंताएं एवं विचार आ सकते हैं

इसीलिए आपको काफी हिम्मत बरतने की आवश्यकता है किंतु चंद्र का गोचर आपको अनुकूलता प्रदान करेगा जिससे आप अपने शत्रुओं से बचकर रहेंगे प्रेम जीवन में साथी की तरफ से थोड़ी निंदा प्राप्त हो सकती है किंतु आप अपनी हिम्मत को ना हारे।

मिथुन राशि: व्यापार से संबंधित रखने वाले लोगों के लिए बहुत अच्छा समय है यदि कोई नया योजना के तहत कार्य करना चाहते हैं तो आपके लिए समय बहुत अच्छा है

कहीं ऐसे अचानक ही अप्रत्याशित श्रोता के सामने आ जाएंगे जिसका लाभ आपको पूरी तरह से उठाना है और अपने जीवन को पूरी तरह से बदलना है भगवान शंकर जी की कृपा आपके ऊपर बनी हुई है।

सिंह राशि: प्रेम जीवन आपके लिए बहुत अच्छा समय है यदि आप किसी व्यक्ति से अत्यधिक प्रेम करते हैं और अपने प्रेम का प्रस्ताव उसके सामने रखना चाहते हैं तो यह समय आपके अनुकूल है

आप अपने साथी को अपनेपन का एहसास अवश्य कराएं किसी भी प्रकार की गलतफहमी अपने मन में ना पालें व्यापार हेतु भी आपके लिए बहुत अच्छा समय है धन प्राप्ति के योग बन रहे हैं।

तुला राशि: इस राशि के जातकों के व्यापार में पहले से मुताबिक काफी सुधार होने वाला है और इनको अपने कार्य में कोई बड़ी सफलता प्राप्त हो सकती है लोगों के पास रुका हुआ

धन इनको प्राप्त होने की संभावना बढ़ रहे हैं तथा नए नए व्यवसाय प्राप्त होने के भी योग बन रहे हैं यह लोग कहीं लंबी यात्रा का प्रोग्राम बना सकते हैं जो इनके लिए काफी अच्छा साबित होगा।

मकर राशि: आप लोगों की मुलाकात अचानक किसी ऐसे व्यक्ति के साथ हो सकती है जिससे मिलने के बाद आपका पूरा दिन बदल सकता है यदि आप कोई नया व्यापार शुरू करना चाहते हैं

और किसी व्यक्ति को अपना सा दीदार बनाना चाहते हैं तो ऐसा करने से पहले कानूनी कार्यवाही तथा हर तरह के दस्तावेजों को पूरी तरह से जांच लें और गठबंधन बना ले क्योंकि यही करना आपके भविष्य के लिए काफी लाभदायक सिद्ध होगा और आपको अच्छा फल की प्राप्ति देगा।

मीन राशि: इस राशि के लोगों की यदि बात करी जाए तो इनके कुंडली में प्रेम योग बन रहा है जिसमें यह अपने प्रेमी से विवाह कर सकते हैं क्योंकि भगवान शंकर जी की कृपा से आपके योग में सकारात्मक संकेत प्राप्त होते हुए दिख रहे हैं

एवं भाग्य आपका पूरी तरह से साथ देगा किंतु किसी भी प्रकार की जल्दबाजी ना करें आप अपने प्रेम प्रस्ताव को शादी के रूप में परिजनों के आगे रख सकते हैं थोड़ा संयम रखें सफलता आपके हाथ में होगी।