देव प्रबोधिनी एकादशी ये 4 राशि के घर एकादशी को स्वयं माता लक्ष्मी दे रही है दस्तक

कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवप्रबोधिनी एकादशी और देव उठानी एकादशी के नाम से जाना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार आषाढ मास की शुक्ल पक्ष की एकदशी यानी देव शयनी के दिन भगवान विष्णु सो जाते हैं।

इसके बाद देव प्रबोधिनी यानी कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष एकादशी को चार महीने बाद भगवान जगते हैं। भगवान के जगने से सृष्टि में तमाम सकारात्मक शक्तियों का संचार होने लगता है। इस दिन भगवान के जगने का उत्सव देवतागण भी व्रत पूजन द्वारा मनाते हैं।

इस वर्ष देव प्रबोधिनी यानी देव उठनी एकादशी दो दिन लग रही है। ऐसे में व्रत की सही तिथि कौन सी है इस विषय में शास्त्रों का मत है कि जिस दिन सूर्योदय कालीन एकादशी तिथि हो और वह दो प्रहर तक लग रही हो उसी दिन एकादशी का व्रत करना चाहिए।

शास्त्र के इस मत के अनुसार इस वर्ष 8 नवंबर को देव उठनी एकादशी का व्रत रखना शास्त्र सम्मत होगा। इसकी वजह यह है कि 8 नवंबर को एकादशी तिथि में सूर्योदय होगा और 12 बजकर 55 मिनट तक एकादशी तिथि रहेगी इसके बाद द्वादशी आरंभ हो जाएगी।

इस एकादशी व्रत का पारण शनिवार 9 नवंबर को सूर्योदय के बाद से ही किया जा सकता है। द्वादशी तिथि 2 बजकर 40 मिनट तक रहेगी। एकादशी व्रत करने वाले को द्वादशी के दिन भी व्रत के कुछ नियमों का पालन करना होता है जिनमें एक नियम यह है व्रती को द्वादशी के रोज दिन में नहीं सोना चाहिए। अगर नींद आ ही जाए तो सिरहाने में एक तुलसी का पत्ता जरूर रख लेना चाहिए।

इस वर्ष एकादशी पर बड़ा ही शुभ संयोग बना है। एकादशी शुक्रवार के दिन है। इस दिन की स्वामिनी विष्णु प्रिया देवी लक्ष्मी हैं। इस दिन व्रत करने से एक साथ लक्ष्मी और नारायण के व्रत का फल व्रतियों को प्राप्त होगा। जो व्रती वैभव लक्ष्मी व्रत करते हैं उनके लिए अच्छी बात यह है कि उन्हें एक साथ दो व्रत का लाभ मिलेगा।

मोक्ष के साथ धन लक्ष्मी की कामना रखने वाले को देव प्रबोधिनी एकादशी के दिन भी दिवाली की तरह घर को साफ रखना चाहिए और पूरी रात पूजा घर में लक्ष्मी नारायण के सामने अखंड दीप जलाना चाहिए। देव प्रबोधिनी की रात भी दिवाली की रात घर के आस-पास दीप जलाना चाहिए।

देव प्रबोधिनी एकादशी के बाद ये 6 राशि वाले कभी भी बन सकते है करोड़पति :

मेष राशि: आप राशि वाले जातकों को बहुत अत्यधिक सावधान रहने की आवश्यकता है आपको अपने ऊपर संयम बरतने की आवश्यकता है तथा मन में नकारात्मक चिंताएं एवं विचार आ सकते हैं

इसीलिए आपको काफी हिम्मत बरतने की आवश्यकता है किंतु चंद्र का गोचर आपको अनुकूलता प्रदान करेगा जिससे आप अपने शत्रुओं से बचकर रहेंगे प्रेम जीवन में साथी की तरफ से थोड़ी निंदा प्राप्त हो सकती है किंतु आप अपनी हिम्मत को ना हारे।

मिथुन राशि: व्यापार से संबंधित रखने वाले लोगों के लिए बहुत अच्छा समय है यदि कोई नया योजना के तहत कार्य करना चाहते हैं तो आपके लिए समय बहुत अच्छा है

कहीं ऐसे अचानक ही अप्रत्याशित श्रोता के सामने आ जाएंगे जिसका लाभ आपको पूरी तरह से उठाना है और अपने जीवन को पूरी तरह से बदलना है भगवान शंकर जी की कृपा आपके ऊपर बनी हुई है।

सिंह राशि: प्रेम जीवन आपके लिए बहुत अच्छा समय है यदि आप किसी व्यक्ति से अत्यधिक प्रेम करते हैं और अपने प्रेम का प्रस्ताव उसके सामने रखना चाहते हैं तो यह समय आपके अनुकूल है

आप अपने साथी को अपनेपन का एहसास अवश्य कराएं किसी भी प्रकार की गलतफहमी अपने मन में ना पालें व्यापार हेतु भी आपके लिए बहुत अच्छा समय है धन प्राप्ति के योग बन रहे हैं।

तुला राशि: इस राशि के जातकों के व्यापार में पहले से मुताबिक काफी सुधार होने वाला है और इनको अपने कार्य में कोई बड़ी सफलता प्राप्त हो सकती है लोगों के पास रुका हुआ

धन इनको प्राप्त होने की संभावना बढ़ रहे हैं तथा नए नए व्यवसाय प्राप्त होने के भी योग बन रहे हैं यह लोग कहीं लंबी यात्रा का प्रोग्राम बना सकते हैं जो इनके लिए काफी अच्छा साबित होगा।

मकर राशि: आप लोगों की मुलाकात अचानक किसी ऐसे व्यक्ति के साथ हो सकती है जिससे मिलने के बाद आपका पूरा दिन बदल सकता है यदि आप कोई नया व्यापार शुरू करना चाहते हैं

और किसी व्यक्ति को अपना सा दीदार बनाना चाहते हैं तो ऐसा करने से पहले कानूनी कार्यवाही तथा हर तरह के दस्तावेजों को पूरी तरह से जांच लें और गठबंधन बना ले क्योंकि यही करना आपके भविष्य के लिए काफी लाभदायक सिद्ध होगा और आपको अच्छा फल की प्राप्ति देगा।

मीन राशि: इस राशि के लोगों की यदि बात करी जाए तो इनके कुंडली में प्रेम योग बन रहा है जिसमें यह अपने प्रेमी से विवाह कर सकते हैं क्योंकि भगवान शंकर जी की कृपा से आपके योग में सकारात्मक संकेत प्राप्त होते हुए दिख रहे हैं

एवं भाग्य आपका पूरी तरह से साथ देगा किंतु किसी भी प्रकार की जल्दबाजी ना करें आप अपने प्रेम प्रस्ताव को शादी के रूप में परिजनों के आगे रख सकते हैं थोड़ा संयम रखें सफलता आपके हाथ में होगी।