4 अगस्त शनिवार कालाष्टमी चुपचाप यहां रखें एक रुपये का सिक्का इतना आयेगा पैसा की संभाल नही पाओगे

कालाष्टमी वैशाख मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को पड़ती है। कालाष्टमी का दिन काल भैरव को समर्पित है। इस माह कालाष्टमी 4 अगस्त 2018 (शनिवार) को पड़ रही है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस कालाष्टमी चंद्रमा, शनि और मंगल एक साथ धनु राशि में स्थित रहेंगे। साथ ही इस दिन धन का कारक ग्रह शुक्र मेष राशि में है और बृहस्पति तुला राशि में रहेंगे।इस कारण कालाष्टमी के दिन विशेष शुभ संयोग बन रहा है। कालाष्टमी के दिन धन लाभ के लिए किए गए उपाय बहुत जल्द परिणाम देते हैं।

१. वृषभ राशि.. इस लिस्ट में सबसे पहला नाम वृषभ राशि वालो का आता है. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस राशि वालो के ग्रह नक्षत्र पूरी तरह से बदलने वाले है और इन ग्रह नक्षत्रो के चलते शिव जी इस राशि वालो से बेहद प्रसन्न है. यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो शिव जी की कृपा से इस राशि वालो को मान सम्मान, धन सम्पदा और खुशियां हर चीज की प्राप्ति होगी.

२. तुला राशि.. बता दे कि इस लिस्ट में दूसरा नाम तुला राशि वालो का आता है. गौरतलब है कि शिव जी को महाकाल का रूप माना जाता है. इसका मतलब ये है कि अगर शिव जी की कृपा आप पर हो गई, तो आपको किसी भी मुश्किल या मुसीबत से डरने की जरूरत नहीं है. यहाँ तक कि आने वाले समय में आपके जीवन की सभी मुश्किलें दूर हो जाएँगी और आपको असीम सुख की प्राप्ति होगी. हमें यकीन है कि शिव जी की कृपा से आपका आने वाला समय बेहद अच्छा रहेगा.

३. मीन राशि… इस लिस्ट में आखिरी नाम मीन राशि वालो का आता है. गौरतलब है कि शिव जी की कृपा से आपको व्यापार में खूब फायदा होगा और आप जो भी कार्य करेंगे, उसमे आपको यक़ीनन सफलता मिलेगी. यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो आने वाले समय में आपको भरपूर लाभ होगा. यूँ तो शिव जी अपने किसी भी भक्त को निराश नहीं करते और अपने सभी भक्तो को एक ही नजर से आंकते है. जी हां शिव जी हमेशा अपने सभी भक्ति पर अपनी कृपा बरसते ही रहते है.

मगर ये तीन राशियां ऐसी है, जिन पर आने वाले समय में शिव जी की खास कृपा होने वाली है. इसलिए अगर इनमे से एक राशि आपकी है तो फ़ौरन शिव जी की कृपा प्राप्त करने के लिए तैयार हो जाईये. हम दुआ करते है कि आप पर शिव जी की कृपा हमेशा बनी रहे.

यन कक्ष अर्थात बेडरूम को ज्योतिष् में एक विशेष स्थान माना गया है. काल पुरुष सिद्धांत की अनुसार बेडरूम को कुंडली के १२वें भाव से देखा जाता है और ज्योतिषशास्त्र में १२वें भाव को नुकसान से जोड़कर देखा जाता है.

रात के समय कुछ चीजों को अपने पास रखकर सोने से सेहत,धन और सांसारिक सुखों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. शस्त्रों में इन ४ चीज़ों को अपने पास रखकर सोना मृत्यु को आमंत्रित करणने के समान माना गया है. आइए उन ४ चीजों के बारे में जानते हैं.

पानी

पानी को भूलकर भी सिरहाने अर्थात सर के पास रखकर ना सोएँ. इससे चंद्रमा पीड़ित होता है और मनुष्य को मनोरोग जैसी समस्या हो जाती है.

पर्स

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सिरहाने पर्स को भी रख कर नहीं सोना चाहिए क्योंकि इससे अनावश्यक खर्च बढ़ता है और लक्ष्मी रूठ जाती हैं.

आभूषण

सोना चाँदी या इनसे निर्मित आभूषण सिरहाने रखकर नहीं सोना चाहिए. इससे हर कार्य में असफलता मिलती है.

चाभी

लोहे के अतिरिक्त अन्य किसी धातु से बनी चाभी भी सिरहाने रख कर नहीं सोना चाहिए. इससे चोरी का खतरा बढ़ता है.

शनिवार को लोग शनि देव की पूजा कर अपने दुखों के निवारण का प्रार्थना करते हैं। मन से शनि देव को भजने वाले की सभी मनोकामना पूरी होती है। गराबों और बुड़े-बुजुर्गों के साथ अच्छा व्यवहार करने वालों पर शनि देव हमेंशा मेहरबान रहते हैं।

शास्त्रों में ऐसा बताया गया है कि शनिवार के दिन सुबह-सुबह यदि आपको इन तीन चीजें के दर्शन हो जाएं तो आपका दिन शुभ हो जाएगा। आइए जानते हैं वो तीन चिजें क्या हैं जिसके दर्शन मात्र से शनिदेव की आप पर कृपा बनी रहेगी।

1. भिखारी का दर्शन- यदि आपके दरवाजे पर कोई भिखारी दस्तक दे तो ये आपको लिए काफी शुभ माना जाता है। उन्हे कभी भी खाली हाथ ना जाने दें। अगर एेसा हुआ तो शनिदेव रूष्ट होते हैं।

2. सड़क सफाई वाले का दिखना- यदि सुबह-सुबह आपको कोई सड़क सफाई वाला दिखाई दे तो यो भी शुभ संकेत है। उस वयक्ति को आप कुछ पैसे या काले कपड़े दें। एेसा करने से शनिदेव आप पर जरूर प्रसन्न होंगे। आप जिस भी काम के लिए जा रहे होंगे उसमें सफल होंगे साथ ही सारा दिन मंगलमय होगा।

3. काले कुत्ते का दिखना- शनिवार के दिन घर से निकलते ही काले कुत्ते का दिखना भी शुभ माना जाता है। अगर आप उस कुत्ते को कुछ खिलाएं तो शनिदेव काफी प्रसन्न होते हैं। काले कुत्ते को तेल चुपड़ी रोटी खिलाना शुभ होता है। इससे ना केवल शनि देव बल्कि राहु और केतु भी प्रसन्न होतेे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *