एक बार कर ले ये उपाय, तो जिंदगी भर किसी पंडित जी को कुंडली दिखाने की नहीं पड़ेगी जरूरत !

गौरतलब है, कि जो लोग इस दुनिया में उपाय कर कर के थक चुके है और फिर भी उन्हें कुछ हासिल नहीं हुआ या जिन लोगो को जीवन में आने वाली मुश्किलों के कारण अपनी कुंडली बार बार किसी पंडित को दिखानी पड़ती है, तो उन लोगो के लिए आज हम एक विशेष खबर लाए है.

जी हां इस दुनिया में ऐसे बहुत से लोग है जो अपनी कुंडली आसानी से किसी भी पंडित जी को दिखा सकते है. मगर वही कुछ लोग ऐसे भी होते है, जो कई कारणों से अपनी कुंडली पंडित जी को नहीं दिखा पाते और अपने बुरे ग्रहो के बारे में नहीं जान पाते.

इसके इलावा जब आप पंडित जी को अपनी कुंडली दिखाते है, तो आपको कुछ उपाय बताएं जाते है और उन उपायों को करने के लिए आपको बहुत सारा पैसा भी खर्च करना पड़ता है. इसके साथ ही कुछ नियम भी बताएं जाते है, जिनका पालन करना कई बार काफी मुश्किल होता है.

ऐसे में बहुत से लोग पैसो की तंगी और समय की कमी के कारण ये सभी उपाय नहीं कर पाते और अगर डरते डरते वो ये उपाय कर भी ले तो गलती जरूर करते है, जो उन पर ही भारी पड़ सकती है. इसके इलावा इसमें कोई शक नहीं कि आपके ग्रहो की दशा रोज बदलती रहती है.

इसलिए यदि आप रोज रोज ये उपाय करेंगे तो आपको केवल नुकसान ही झेलना पड़ेगा. बरहलाल इन सबके बावजूद अगर आपको केवल एक उपाय करने के लिए कहा जाएँ जो आपकी सभी मुश्किलों को हल कर देगा और जिसमे केवल जीरो रूपये खर्च होगा, तो क्या आप वो उपाय करना चाहेंगे.

जी हां इस एक उपाय के अनुसार आपको केवल एक ताम्बे के लोटे में जल लेना है और इसके बाद यदि आप अपनी राशि के अनुसार अपने स्वामी वृक्ष पर नियमित रूप से जल चढ़ाएं तो यक़ीनन इससे आपके सारे ग्रह नियमित रूप से आपके अनुकूल हो जायेंगे.

यानि अगर आपकी राशि मेष और वृश्चिक है तो खैर के वृक्ष पर ताम्बे के लोटे में जल भर कर इस पर जरूर चढएं. इसके इलावा यदि आपकी राशि कर्क है, तो नियमित रूप से पलाश के वृक्ष को जल प्रदान करे.

इसके साथ ही सिंह राशि वाले आंकड़े के वृक्ष, मिथुन और कन्या राशि वाले अपामार्ग वृक्ष और तुला और वृषभ राशि वाले गूलर के वृक्ष पर जल अर्पित करे. गौरतलब है, कि मकर और कुम्भ राशि वाले शमी के वृक्ष पर

और मीन तथा धनु राशि वाले पीपल के वृक्ष को ही रोजाना जल अर्पित करे. इसके इलावा इस बात का ध्यान रखे कि रविवार के दिन पीपल के पेड़ पर जल अर्पित न करे. इससे आपके सभी ग्रह हमेशा अनुकूल रहेंगे.

गौरतलब है, कि जो लोग इस दुनिया में उपाय कर कर के थक चुके है और फिर भी उन्हें कुछ हासिल नहीं हुआ या जिन लोगो को जीवन में आने वाली मुश्किलों के कारण अपनी कुंडली बार बार किसी पंडित को दिखानी पड़ती है, तो उन लोगो के लिए आज हम एक विशेष खबर लाए है.

जी हां इस दुनिया में ऐसे बहुत से लोग है जो अपनी कुंडली आसानी से किसी भी पंडित जी को दिखा सकते है. मगर वही कुछ लोग ऐसे भी होते है, जो कई कारणों से अपनी कुंडली पंडित जी को नहीं दिखा पाते और अपने बुरे ग्रहो के बारे में नहीं जान पाते.

इसके इलावा जब आप पंडित जी को अपनी कुंडली दिखाते है, तो आपको कुछ उपाय बताएं जाते है और उन उपायों को करने के लिए आपको बहुत सारा पैसा भी खर्च करना पड़ता है. इसके साथ ही कुछ नियम भी बताएं जाते है, जिनका पालन करना कई बार काफी मुश्किल होता है.

ऐसे में बहुत से लोग पैसो की तंगी और समय की कमी के कारण ये सभी उपाय नहीं कर पाते और अगर डरते डरते वो ये उपाय कर भी ले तो गलती जरूर करते है, जो उन पर ही भारी पड़ सकती है. इसके इलावा इसमें कोई शक नहीं कि आपके ग्रहो की दशा रोज बदलती रहती है.

इसलिए यदि आप रोज रोज ये उपाय करेंगे तो आपको केवल नुकसान ही झेलना पड़ेगा. बरहलाल इन सबके बावजूद अगर आपको केवल एक उपाय करने के लिए कहा जाएँ जो आपकी सभी मुश्किलों को हल कर देगा और जिसमे केवल जीरो रूपये खर्च होगा, तो क्या आप वो उपाय करना चाहेंगे.

जी हां इस एक उपाय के अनुसार आपको केवल एक ताम्बे के लोटे में जल लेना है और इसके बाद यदि आप अपनी राशि के अनुसार अपने स्वामी वृक्ष पर नियमित रूप से जल चढ़ाएं तो यक़ीनन इससे आपके सारे ग्रह नियमित रूप से आपके अनुकूल हो जायेंगे.

यानि अगर आपकी राशि मेष और वृश्चिक है तो खैर के वृक्ष पर ताम्बे के लोटे में जल भर कर इस पर जरूर चढएं. इसके इलावा यदि आपकी राशि कर्क है, तो नियमित रूप से पलाश के वृक्ष को जल प्रदान करे.

इसके साथ ही सिंह राशि वाले आंकड़े के वृक्ष, मिथुन और कन्या राशि वाले अपामार्ग वृक्ष और तुला और वृषभ राशि वाले गूलर के वृक्ष पर जल अर्पित करे. गौरतलब है, कि मकर और कुम्भ राशि वाले शमी के वृक्ष पर

और मीन तथा धनु राशि वाले पीपल के वृक्ष को ही रोजाना जल अर्पित करे. इसके इलावा इस बात का ध्यान रखे कि रविवार के दिन पीपल के पेड़ पर जल अर्पित न करे. इससे आपके सभी ग्रह हमेशा अनुकूल रहेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *